Salman Ka Blog

Just another weblog

49 Posts

114 comments

SALMAN AHMED, salmanahmed70@yahoo.co.in


Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.

Sort by:

पप्पू पास होगया 99% नंबर से !!!!!!!!!!!!!!!!!

Posted On: 30 May, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Others में

0 Comment

‘रेप तो रेप है चाहे दिल्ली हो या कश्मीर’

Posted On: 23 Dec, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

2 Comments

प्रिय शरीफ़ा बीबी,

Posted On: 22 Dec, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

Others में

0 Comment

Bal Thackeray: An authentic Indian fascism

Posted On: 20 Nov, 2012  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Others में

0 Comment

Page 1 of 512345»

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

सलमान जी भारत माता की जय हिदू को आपने एक संप्रदाय या पूजा पध्दति के रूप में जाना है. जो गलत है हिन्दू एक जीवन शैली है आप मुसलमान होकर भी यदि इस जीवन शैली को अपनाते है तो आप हिन्दू कहला सकते है. हिदू कोई पुस्तक या कोई प्रवर्तक के प्रवचन के आधार पर चलने वाला धर्म नहीं है. समय, परिस्थिति और समाज कल्याण के लिए हिन्दू जीवन शैली में निरंतर परिवर्तन किये जाते है और हिन्दू समाज ह्रदय से इसे अपना लेता है. लेकिन जो परिवर्तन शरीर को प्रदर्शन की बस्तु बना दे उसे कैसे स्वीकार किया जा सकता है. हिदू समाज में महिलायों को स्थान पुरुषो से उचा है. उसे देवी का रूप माना जाता है दुर्भाग्य से महिलाये को यह स्थान अब पसंद नहीं आ रहा है वह अपना कद छोटा कर पुरुषो के बराबरी करना चाहती है. जिन महिलायों का आपने उल्लेख किया है वह अपने को प्रदर्शन की वस्तु नहीं बनाई बल्कि देश समाज मानवता के लिए अपने शक्ति की उपयोग किया है. हिदू हमेशा अपने धर्म से ऊपर समाज, देश और मानवता को मानता है. हिदू दर्शन का शार है "वशुधैव कटुम्ब्कम" अर्थात सारा विश्व एक परिवार है ऐसा दर्शन आपको कहाँ मिलेगा. अतः आपसे अनुरोध है की हिन्दू जीवन शैली को पूजा पद्धति से ना जोड़े यह एक जीवन शैली है हिदू राष्ट का मतलब सांस्कृतिक राष्ट्रवाद है

के द्वारा:

हिंदुत्व के मुताबिक स्त्री का धर्म कर्म अशुद्ध है और वह पाप योनि है? स्त्री नरक का द्वार है? क्या इसलिए कि उनका हिंदुत्व स्त्री को विधर्मी म्लेच्छ समझता है या फिर देहमुक्ति की मांग करनेवाली, अपनी सुरक्षा और स्वतंत्रता की मांग करने वाली हर स्त्री उनकी नजर में विधर्मी म्लेच्छ है?क्या वे पितृतांत्रिक प्रमाली के तहत लक्ष्मणरेखा पार करने वाली स्त्री के विरुद्ध हुए हर तरह के उत्पीड़ने के लिए उसे दुस्साहस और अनुशानहीनता को ही जिम्मेवार नहीं ठहरा रहे हैं? मान्यवर इन पंक्तियों को लिख कर आप क्या सिद्ध करना चाहते है ? आर.आर. एस की विचारधार से हर हिंदू सहमत हो यह जरूरी नही है किंतु यह पंक्तियाँ किसी भी संवेदनशील हिंदू को चोट पहुचायेगी इसमें संदेह नही है | ऐसा कह कर आप पूरे मुद्दे को एक साम्प्रदायिक जामा पहनाने की जुर्रत कर रहे है जो नाकाबिले बर्दाश्त है | यह उन हजारों युवको को गाली देने के जैसा है जो दिल्ली की हाड कपाने वाली सर्दी में भी ठन्डे पानी की बौछार सह रहे थे और रात रात भर हिंदू-मुसलमान की चिंता किये बिना इंडिया गेट के सामने डटे हुए थे | यह समस्या पूरे भारतीय समाज की समस्या है जिसमे सभी जातियाँ और धर्म शामिल है | यदि आप सच्चे धर्मनिरपेक्ष नजरिये से बात कर रहे होते तो अपने लेख में इन बयानों को भी शामिल करते – - बहुजन समाज पार्टी के सांसद शफीकुर रहमान बर्क का कहना है, “महिलाएं जिस तरह से कपड़े पहनती हैं, उनसे युवक अपराध करने को आमादा होते हैं. यूरोपीय अंदाज के कपड़े पहनने से देश में अपराध बढ़ रहे हैं. महिलाओं में पहले जो शालीनता थी वो अब नहीं है | - महाराष्ट्र में समाजवादी पार्टी के नेता अबू आजमी का बयान -“अगर आप पेट्रोल और आग को एक साथ रखेंगे तो आग लगेगी हीनंगेपन’ को रोकने के लिए कानून बनना चाहिए.”आजमी ने कहा, “मैं दिल्ली के बलात्कारियों के लिए मौत की सजा चाहता हूं, लेकिन ये भी कानून बने कि लड़कियां कम कपड़ने न पहनें और वो ऐसे लड़कों के साथ न घूमें जो उनके रिश्तेदार न हो.” - बिहार के सीवान जिले में हसनपुरा थाना अंतर्गत सिसवां कला पंचायत में पंचों ने सर्वसम्मति से निर्णय लेकर छोटी और स्कूल कालेज जाने वाली लड़कियों द्वारा मोबाइल फोन के उपयोग और छोटे कपड़े पहनने पर प्रतिबंध लगा दिया. - हम ममता दी से पूछना चाहते हैं उन्हें कितना मुआवजा चाहिए. बलात्कार कराने के लिए वे कितना पैसा लेंगी.

के द्वारा:

मान्यवर मेरा मानना है कि संसार में मानवता के अतिरिक्त अन्य कोई धर्म नहीं है। प्रथम तो हिन्दु एक संस्कृति है। जो हिन्दुस्तान में रहने वाला रह व्यक्ति है। जिसे आप हिन्दु कर रहे या समझ रह हैं, वह सनातन धर्म(सम्प्रदाय) है। हिन्दु(सनातन), इस्लाम, ईसाई, सिख आदि धर्म नहीं अपतु सम्प्रदाय हैं। जो हमें आपस में बाँटते है। हमारे इंसान बनने के प्रयास को असफल कर देते हैं। हमें अन्य सम्प्रदायों  से घृणा सिखाते हैं। धर्म(सम्प्रदाय) रूपी महल घृणा रूपी नींव पर खड़ा है।      धर्म(सम्प्रदाय) या मजहब का निर्माण कुछ आर्थिक, सामाजिक, राजनैतिक एवं बौद्धिक रूप से सम्पन्न लोगों द्वारा आर्थिक, सामाजिक, राजनैतिक एवं बौद्धिक रूप से विपन्न लोंगो का शोषण करने के लिये किया गया था। सम्प्रदाय मानवीय विकास की प्रक्रिया का एक वाधक तत्व है। लोकतंत्र पर संकुचित करने वाला एक रसायन है। एक जहरीली शराब है।  मुझे अफसोस है कि मेरे कुछ दोस्त इस मदिरा के आदी हैं। मेरा तो सभी से यही आग्रह है कि इस नशे का परित्याग करके मानवीय धर्म के अनुयायी बनकर प्रकृति रूपी ईश्वर की आराधना करें। मंदिर मस्जिद की जगह स्कूल, अस्पताल एवं कारखाने खोले। भारतीय  संविधान को सबसे पवित्र ग्रन्थ स्वीकार करें। हम सब हन्दु, मुस्लिम, ईसाई नहीं, अपितु केवल इंसान बने  जो जन्म के समय थे।

के द्वारा: dineshaastik dineshaastik

Anna Hazare responded to journalists’ questions after calling off the fast at MMRDA Grounds in Mumbai on Wednesday. Asked repeatedly why he only attacked the Congress, not other parties, he walked off the dais. Here’s what he said before leaving: Q: Have you withdrawn the fast because the turnout was low? Anna Hazare: It is not correct (that we have no public support this time). I don’t have the power, money, dhan-daulat. Still, so many people have come. Is the crowd not good enough? People around the country have joined the movement. Isn’t that good enough? One day, you will get to see our popularity when we campaign during elections. You will get to know the kind of support we enjoy. Q: Did you invite Ramdev to bring in the crowds? You once said you would not share a platform with him. Aide Arvind Kejriwal replies on Hazare’s behalf: Yesterday, Anna Hazare praised Baba Ramdev for his agitation against black money. We support his agitation. Second, he has consistently supported our movement for a strong Lokpal. We are sure he will continue to support us. We have no objection to his sharing his views with the audience here. He had come to Ramlila Maidan too. He is fighting against corruption, we are also fighting against corruption. That being the case, what is wrong in his coming and expressing his views here? Hazare intervenes: All those people who are fighting against corruption separately today will come together and fight (in the future). Q: Will you gherao the residences of BJP MPs (like you had planned to squat outside Sonia and Rahul Gandhi’s homes)? Kejriwal: That programme is cancelled. Annaji has already spoken about it. We have also called off the jail bharo agitation we were to start from December 30. (Another journalist repeats the question on the gherao plan.) Kejriwal: Everything has been called off. However, the programme of touring the five Assembly poll-bound states is on. We will sit together and plan the whole thing. Q: Don’t you think it is a political move to campaign only against the Congress in the five states when you claim the movement is apolitical? Hazare: Instead of letting the country get ruined further, it is necessary for us to save it. These people should not return to power. These people have destroyed the country. The country that was once known as the land of gold reached a stage when it had to pledge its gold. How long must we support these people? How long do we have to elect them? Q: Don’t you think that your strategy to make only the Congress the villain has proved to be wrong? In the Lok Sabha, the Samajwadi Party and the Bahujan Samaj Party MPs walked out. The BJP has spoken in different voices in Parliament and outside. Left parties have criticised you. Kejriwal: Why don’t you ask the parties concerned what they are doing or otherwise? I got an SMS that said the government once again misused the CBI to get the support of the BSP and the SP. Why did the two parties walk out of the Lok Sabha? Whenever the government needs these parties, it lets loose the CBI on the leaders of these parties. We all know the CBI is investigating cases against Mulayam and Mayawati. Has the government once again misused the CBI to get their support? Q: Will you oppose only the Congress or other political parties as well (during the tour of the five states)? Hazare: There is no reason for us to oppose other parties. We will tell people how this government cheated us repeatedly…. Q: Don’t you think that even the BJP betrayed you yesterday in the Lok Sabha? Hazare: It is the Congress that has cheated us the most. That’s why we will oppose it. (As journalists repeatedly asked why Hazare was targeting only the Congress, he left the dais. Kejriwal said his health was not good, so he had gone to rest.)

के द्वारा:

Transparency is good only when we have to talk about it. In real it is difficult thing to practice. This may be the reason of government’s reluctance to pass a strong Lokpal as demanded by adamant Anna and his team and For Anna and his team to not reply to RTI’s filed. Meanwhile, we tried to investigate into the funding of the Anna Hazare’s movement. For the same we filed RTI’s to Anna’s organisation Bhrastachar Virodhi Jan Andolan Nyas, Manish Sisodia’s Organisation Kabir, Arvind Kejriwal’s organisation PCRF, which is running the movement of India Against Corruption which in real is a non registered body. Anna, Manish and Kejriwal talk a lot about transparency when they are on News channels or in public meeting. But when it comes to practice they are like the parliamentarians who too speak a lot about it in parliamentary debates while their real conduct shows something else. Anna Hazare and Manish Sisodia didn’t bother to reply to the RTI’s questioning funding of their respective organizations. PCRF gave a half hearted reply saying the details are available on the website. We asked Kabir to furnish details of its funding and Purchase of its office and funds for the same. The RTI was filed in August but we have got no response till now. RTI’s filed earlier show that Kabir is funded by Ford Foundation, Dutch Embassy and many other foreign organizations. In 2011 alone Kabir got 2 lakh Dollars (nearly 1 Crore Rupees) from Ford Foundation. But Kabir did not mention name of the Dutch Embassy in list of donors on its website. Dutch Embassy has donated Around 20 lakh rupees to kabir to carry activities in India. One interesting fact is that Kabir is funded mostly by foreign NGO’s. It is not clear from where these foriegn NGO’s get funds from. Foriegn NGO’s are funding Indian NGO’s to carry their activities. Team Anna claim that the India Against Corruption is a movement of 120 crore people of India but the fact is not like that .The Donor list includes corporate like Tata and Jindal, banks like HDFC bank and Kashmir Bank, Private schools like Carmel and many other private organizations. Out of the total of 25214478 rupees of funds received as donations Kejriwal stashed away around ten lakh rupees as salaries to employees of PCRF. More interesting is the fact that these employees are also in the core committee of team Anna. In other words people of India are paying salaries to freedom fighters of second Struggle of India’s freedom! Alleging Corruption in funds received by PCRF, one of donors named Vipin Nayyar is on dharna at Jantar Mantar to get back 36000 Rupees he donated to the movement. He says that he was beaten by PCRF members when he demanded his money back. The question is, how ethical is for Mr. Kejriwal and Manish Sisodia to ask the People of India to Participate in the agitation against government and donate for the fight when a large sum of money went as salaries to employees of organizations fighting for corruption. And Why should people of India Fight for free when the core committee members of Anna are getting paid for the second struggle of Freedom?

के द्वारा:

Infact what you have stated is true, but there was a much worse scenario when the non-congress govt was ruling, how many bills did they introuduce in parliament for the welfare of minorities. As far as i am concerned "none!". When minorities were ignored completely during their tenure of 6 years what could you expect out of them if they are entrusted with power for 60 years. You better know what happened in Gujrat duriing their rule...! i dont want to get in brief, but its a bitter truth. The minorities believe that the Congress is the one Secular Party where the welfare of their community can be expected as they have been benefitted to some extent irrespective of their social status.So, what's harm in having faith in Congress party.Though i am not a supporter of any political party, my views expressed above should not be considered anti or pro towards any party. I am talking about the social justice of minorities..! Ofcourse, I do agree that the corruption should be dealt with strict measures without being partial to anyone, for that we need to understand that the MONSTER CORRUPTION cannot be defeated by the group of 5 to 6 members. Every single citizen of the country is accountable if the corruption has to be tackled. Good governance and knowledgeble people can eliminate the corruption if they stop being selfish. Yes! there should be a effective law which can act as poison to those who give or take bribe. For that, we need to understand in a DEMOCRACTIC COUNTRY laws are made by the representatives of citizen at the parliament through a democratic procedure, we can take time and frame the bill by making careful observation. Mr. Anna and co. must understand that the Civil Society's can make suggestions to the PARLIAMENT but PARLIAMENT cannot be dictated..

के द्वारा:

आदरणीय सलमान जी, सादस नमस्कार एवं नये वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें। सचमुच कविता बहुत ही सुन्दर है। किन्तु आपसे निवेदन है कि धर्म के दूसरे भयानक एवं विकृत रूप का भी चित्रण करते, तो शायद अधिक न्याय-संगत एवं तर्क-संगत होता। 1, धर्म का निर्माण राजनैतिक,सामाजिक एवं आर्थिक रूप से सम्पन्न व्यक्तियो ने अपनी सत्ता चिर स्थाई रखने के लिये एवं राजनैतिक,सामाजिक एवं आर्थिक रूप से पिछड़े व्यक्तियों का शोषण करने के किया होगा। 2.प्रकृति़जन्य केवल एक धर्म है, वह है मानवता। अन्य सभी धर्म न होकर मात्र सम्प्रदाय हैं.अज्ञानता वश हम उन्हें धर्म समझते हैं। 3.सम्प्रदाय मानवकृत होते हैं। जो हमें आपस में बांटते हैं. मंदिर-मस्जिद तुड़वाते हैं, गोधरा में ट्रेन जलवाते हैं, इसके बाद धर्म का नाम लेकर गुजरात में दंगा करवाते हैं। 4.यह सभी सम्प्रदाय अलग-अलग किस्म की शराब हैं, इनके स्थल शराबखाने तथा इनके प्रमुख इसको बेचने वाले। मित्र मेरा मानना है कि मानवता के अतिरिक्त अन्य धर्म हो ही नहीं सकता। और हमें इसके अतिरिक्त अन्य धर्म की आवश्कता भी नहीं है।

के द्वारा: dineshaastik dineshaastik

हिमांशु भट्ट जी...... कम से कम आपसे इस तरह की प्रतिक्रिया की अपेक्षा नहीं थी........ किसी भी धर्म को विपरीत धर्म से उतना नुकसान नहीं पहुंचता है जितना की अपने ही धर्म के उनलोगों से जो आधुनिकता के पंख लगा कर हनुमान को भारतीय ही मैन ही मानते हैं उनको नहीं लगता की ऐसा कुछ हो भी सकता है..... जबकि आप भी भली भांति जानते हैं की किस तरह मनसार मेले के लिए सीता माता की प्रतिमा हर साल अलग अलग स्थानो से निकलती है जबकि कोई उसको वहाँ नहीं छुपाता है......... अब वैज्ञानिक भले इसके पीछे किसी ग्रामीण का हाथ बता दें जिसको इस मेले से लाभ होता हो.... पर सच्चाई क्या है ये आप समझ सकते है........ ये हमारे देश की विडम्बना है की जब भी कोई सार्वजनिक तौर पर अपने धर्म के पक्ष मे कुछ बोलता है या अपने धर्म के खिलाफ हो रही किसी बात का विरोध करता है तो उसपर फासीवादी होने का टैग लगा दिया जाता है.....

के द्वारा:

रामकथा जिस मिट्टी में रोपी गई, वहां परंपरा, संस्कृति और जीवन का अंग बन गई। वह अलग-अलग खुशबू वाले पौधों के रूप में पुष्पित-पल्लवित हुई। जिस प्रदेश में, जिस भाषा में सुनी गई, उसी के भीतर समाहित हो गई। रामकथा को उनसे अलग कर उसके किसी एक रूप को रोपने की कोशिश हमारी संस्कृति की व्यापकता और देश की अखंडता को चोट पहुंचाएगी।धार्मिक कथाएँ एक मिथक ही होती हैं,उनकी प्रमाणिकता हमेशा संदेह के घेरे में ही रहती है,न तो कोई चाँद के दो टुकड़े कर सकता है और न ही समुद्र मानव का रूप धर सकता है,किन्तु विज्ञान को आधार बना कर किसी की भी धार्मिक अवधारणा पर प्रहार करना सौहार्द्र के माहौल को भंग करने की कुटिल चेष्टा के अलावा कुछ नहीं है,दुनिया में कोई भी धर्म ऐसा नहीं है जो वैज्ञानिक प्रतिमानों पर शत प्रतिशत खरा हो,विज्ञान और धर्म संरचनात्मक और तथ्यात्मक रूप से बिलकुल ही अलग चीजें हैं,भारतवर्ष का समूचा इतिहास तो विदेशी हमलावरों ने नालंदा विश्वविद्यालय के साथ ही जला डाला और खुद भ्रामक इतिहास की रचना करवाई गयी,ऐसी स्थिति में जो अवाधार्नाएं लोगों के अंतर्मन में बैठी थी,उन्हें जलाना तो कभी संभव न था,उन्ही मिथकों को लोगों ने अपने ह्रदय में बिठाया है,और इन मान्यताओं पर प्रहार करना धार्मिक उन्माद फैलाना है,कृपया ऐसी छुद्र कोशिशों को हवा न दी जाए.

के द्वारा: rahulpriyadarshi rahulpriyadarshi

निलन जी नमस्ते आपने इतिहास सिखा है ईस लिये मैने यहां पर टिप्प्णी की है । आप भी समज ले की आपने बनावटी इतिहास ही पढा है । सलमानभाई नमस्कार रामानुजन का नाम भले हिन्दु है पर वो ईसाई था । किसी के मरने की कामना नही करनी चाहिए पर अच्छा हुआ ये १५ साल पहले मर गया । आज हिन्दुओं को बेवकुफ बना के वोट की लालच में साउथ में बहुत नेता है जो ईसाई है पर नाम हिन्दु है । १८५७ के बाद विदेसियोने भारत का पूरा एतिहास ही बदल दिया, भारत की प्रजा को निर्माल्य बनाने के लिए । भारत के लोग हमेशा से मूर्ख, निर्बल और डरपोक ही थे ऐसा बताया गया । बहादूर शासक और प्रजा की बहादूरी दिखानेवाले ईतिहास को मीथ बना दिया । जीस राजा के नाम से हिन्दु केलेन्डर (विक्रम संवत) चलता है वो राजा विक्रम को तो परीकथा का पात्र बता दिया । जीस बहादूर बालक के नाम से देश का नाम भारत पडा उसे तो पूरी तरह भुला दिया गया । देश का भारत सत्य है लेकिन भारत राज मीथ है । विक्रम संवत सत्य है खूद विक्रम राजा मीथ है । एक युरोपिअन ईतिहासकार हंसता है भारत के ईतिहास और भारत की प्रजा पर । वो कहता है ये ईतिहास भारत का ईतिहास है ही नही । सब बनावट है । भारत का ईतिहास गौरवशाली होना चाहिये था । फिर से लिखने की जरूरत है । फ्रीडम ओफ एक्ष्प्रेशन वाले गटर में गीर के गू क्यों नही खाते वो भी तो फ्रीडम ओफ एक्ष्प्रेशन ही है ।

के द्वारा: bharodiya bharodiya

सलमान जी , रामानुजन से जुड़े लेख के विरोध की ठोस वजह जो आपको समझ में नहीं आ रही वो यह है कि उसमें हिन्दू देवी - देवताओं के सन्दर्भ में कुछ ऐसी आपत्तिजनक बातें कही गयी हैं जो किसी भी धर्म के लोगों को अस्वीकार्य होंगी | हिन्दुस्तान का हर बुद्धिजीवी हिन्दू धर्म ग्रंथों की आलोचना करते समय तो बड़ा मुखर और उदार हो जाता है पर दूसरे धर्मों के विषय में कुछ भी कहने से घबराता है , उसकी जीभ को लकवा मार देता है | आप हिन्दुओं को और कितना सहनशील और उदार बनाना चाहते हैं ? ये तो पहले से ही उदारता के सागर में इस तरह गोते लगा रहे हैं कि राह चलते कोई भी इनकी माँ - बहनों पर फ़ब्तियाँ कस कर निकल जाता है और ये बेचारे चोट खाकर भी उफ़ नहीं करते | कला के नाम पर कोई सीता का " न्यूड " बना देता है ,तो कोई हनुमान को " रसिक " ठहरा देता है | किसी को सीता रावण पर मुग्ध दिखाई देती हैं | असल में मानसिक विकृति के शिकार ये लोग जान बूझकर ऐसी बातें लिखते हैं ताकि इसी बहाने ये अपने बदबूदार विचारों से हमारे देश के सुगन्धित वातावरण को दूषित करें और इन्हें सेक्युलर होने का तमगा भी मिल जाय | आप ही बताइए जहाँ वन्दे मातरम् गाना सांप्रदायिक ठहरा दिया जाता है , गीता का दर्शन विद्यालयों में पढाये जाने पर बवाल खड़ा हो जाता है , सरस्वती वंदना गाए जाने पर राजनीति की जाती है , अपने धर्म और संस्कृति की वकालत करना फासीवाद कहलाता है वहाँ कोई करे तो करे क्या ? साहित्य और इतिहास की विद्यार्थी होने के नाते मैंने भी रामायण के मिथकों के विषय में काफी पढ़ा है पर मिथक तोड़ने की ऐसी परंपरा नहीं देखी | मिथकों से खेलनेवाला कोई खिलाड़ी यदि यह कहे कि " जीसस क्राइस्ट " या " मोहम्मद साहब " रसिक थे तो क्या ईसाई और मुस्लिम समुदाय उसे सर आँखों पर बैठायेगा या सर कलम करदेने का फतवा जारी करेगा ? तसलीमा का वाकया तो कोलकाता में मैंने स्वयं अपनी आँखों से देखा है , मिथकों से खेलने का हक तो उसे भी मिलना चाहिए था ?

के द्वारा:

सलमान जी, यहाँ पर विरोध तीन सौ रामायणों को लेकर नहीं है अपितु रामानुजन के लेख में राम, सीता और हनुमान पर जो आक्षेप लगाये गए हैं उके लिए है। आपने तो अपना लेख लिख दिया और लगे हाथ दूसरों को अपनी मातृभाषा के ज्ञान को समृद्ध करने की नसीहत भी दे डाली परन्तु आपके लेख का उद्देश्य ही भटका हुआ है जैसा की ऊपर स्पष्ट है कि विरोध किस बात को लेकर है। एक बात पर मैं सहमत भी हूँ कि वेदों, पुराणों और उपनिषदों के अध्येता को दकियानूसी कहना सर्वथा अनुचित है। जो ज्ञान पुरातन ग्रंथो में भरे पड़े हैं आज उन्हें पाने के लिए विदेशी विद्वान भी हमारी प्राचीन पांडुलिपियों के अध्ययन में लगे हुए हैं। आपकी शेष जानकारियां अच्छी लगीं।

के द्वारा: वाहिद काशीवासी वाहिद काशीवासी

के द्वारा: jalal jalal

के द्वारा:

सलमान जी अब एक सवाल मैं आपसे पूछना चाहता हूं । बाबर एक लुटेरा, आक्रांता था । उसके शिया सिपहसालार मीर बाकी ने सन 1528 में अयोध्या में राजा विक्रमादित्य द्वारा बनवाया 2000 साल पुराना राममंदिर तोड़ कर उसी मंदिर के मलबे से, हिंदुओं को अपमानित करने के लिये बाबरी ढांचे का निमार्ण किया था । यह बात तमाम समकालीन ऐतिहासिक किताबों में मिलती है जिसका उल्लेख मैंने नीचे किया है । हिंदुओं के लिये उस स्थान की कीमत मक्का मदीने से कम नहीं है । अदालत का फैसला आ जाने के बाद पूरे भारत ने चैन की सांस ली कि अब इस खूनी मामले का हल करीब है और अगर दोनो पक्ष मिल कर सुलह कर लें तो इससे बढ़ कर कोयी बात नहीं होगी । पर कुछ ऐसे लोग जिनकी रोजी रोटी इस मुद्दे की आग पर ही सिंकती है, वो न तो सुलह की बात कर रहे हैं और न ही अदालत के फैसले को मान रहे हैं । उनकी थोथी दलीलें सिर्फ मुस्लिम भाईयो को भड़काने के काम आ रही हैं । आज यह साबित हो गया है कि उस स्थान पर 2500 साल पुराना मंदिर था । जहां तक मस्जिद का सवाल है हिंदू अपने पैसे से एक भव्य मस्जिद बनाने की बात कर रहा है । अब आप बतायें कि आपका क्या सोचते हैं । क्या आप 500 साल पहले के मध्ययुगीन लुटेरे, आक्रांता बाबर की सोच रखते हैं या आजाद भारत में हिंदू मुस्लिम भाई चारे के बढ़ावे की सोच रखते हैं ।

के द्वारा: kmmishra kmmishra

मैं यहां पर दैनिक जागरण में एसोसिएट ऐडिटर आदरणीय राजीव सचान के लेख ”फैसले पर कुतर्कों का वार“ की कुछ पंक्तियां उद्धृत करना चाहूंगा । "कुछ लोग अयोध्या फैसले को पंचायती न्याय बताकर यह माहौल बना रहे हैं जैसे न्याय का यह तरीका आदिमयुगीन, सर्वथा अनुचित और हेय हो । ऐसा तब किया जा रहा है जब अदालतों ने न जाने कितने विवाद दोनों पक्षों को संतुष्ट कर सुलझाए हैं । लोक अदालतों और परिवारिक अदालतों की ओर से ढेरों ऐसे विवादों का निपटारा किया जाता है जिनका उद्देश्य दोनों पक्षों को संतुष्ट कर कलह दूर करना होता है । सरकारें भी तमाम विवादों का निपटारा बीच का रास्ता निकालकर करती हैं । अब यदि इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने भी आस्था, मान्यताओं, सबूतों के आधार पर ऐसा ही कर दिया तो उस पर हाय तौबा क्यों मचाई जा रही है ? क्या इसलिये कि इस फैसले से न कोई पक्ष पूरी तरह जीतता दिखा और न कोई पूरी तरह हारता हुआ ? क्या संवेदनशील मामलों में न्याय तभी न्याय की शक्ल लेता है जब एक पक्ष की स्पष्ट जीत हो और दूसरा की स्पष्ट हार । ? ऐसे न्याय का कोई मतलब नहीं कि अदालतें निर्णय तो दे दें, लेकिन कलह बरकार रहे । यदि न्याय का उद्देश्य विवाद का समाधान करना नहीं रह जायेगा तब फिर न्याय तो होगा लेकिन वह दिखेगा नहीं ।“ अब मेरी सुनिये । अयोध्या मामला एक सिविल सूट था । सिविल सूट में तमाम वाद बिंदू होते हैं जिन पर जज अपने निर्णय देते हैं । इस मामले में करीब 100 के लगभग वाद बिंदू थे । उन सभी वाद बिंदुओं पर तीनों जजेज ने अपना अपना फैसला सुनाया । इन 100 वाद बिंदुओं में कुछ आस्था पर आधारित थे तो कुछ विधि के प्रश्नों पर तो कुछ ऐतिहासिक किताबों पर तो कुछ ए एस आई की रिपोर्ट पर । अंत में तीनों जजेज के फैसले को जब देखा गया तो नतीजा 2-1 से रामलला के पक्ष में निकला । . जो यह कहते हैं कि फैसला पूरी तरह से आस्था पर केंद्रित है तो या तो उन्होंने फैसले को पूरा पढ़ने की जहमत नहीं उठायी या फिर उन्हें भारत में लागू विधि का कोई ज्ञान नहीं है क्योंकि 8500 पेज का पूरा फैसला विधि पर आधारित है । इस में न सिर्फ भारत की तमाम विधियों पर बहस हुयी है, साथ साथ प्रीवी काउंसिल, सुप्रीम कोर्ट और दूसरे उच्च न्यायालयों के सैकड़ों निर्णयों का भी हवाला दिया गया है ।

के द्वारा: kmmishra kmmishra

अभी कल की ही घटना है । लखनऊ में जामा मस्जिद के इमाम मौलाना अहमद बुखारी एक प्रेस कांफ्रेन्स में एक मुस्लिम पत्रकार अब्दुल वहीद चिश्ती के सवाल पर भड़क गये और चिश्ती को कौम का गद्दार बताते हुये उन्होंने उसकी गर्दन कलम करने का हुक्म भी सुना दिया । इसके बाद तमाम दूसरे लोगों के साथ इमाम मौलाना बुखारी ने भी उस पत्रकार को जम कर पीटा । . पत्रकार वहीद चिश्ती ने एक सही प्रश्न गलत आदमी से पूछने की जुर्रत की थी । उन्होंने बुखारी से पूछा था कि - ”1528 के खसरे में जब अयोध्या की जमीन राजा दशरथ के नाम दर्ज है, तो उसके वारिस राजा रामचंद्र होते हैं । यह बात हाईकोर्ट के फैसले में भी है और सुन्नी वक्फबोर्ड के अधिवक्ता जफरयाब जिलानी को भी मालूम है । जब ऐसे साक्ष्य मौजूद हैं तो भाईचारे के नाते उस जमीन को सोने की थाली में सजाकर मुसलमान भाई हिंदुओं को क्यों नहीं दे देते ।” यह होता है हश्र इस्लाम में शांति, भाईचारे और धर्मनिरपेक्षता की बात करने वालों का ।

के द्वारा: kmmishra kmmishra

अगर बात आस्था की है तो हिंदुओं ने कभी ईसा के चमत्कारों पर सवाल नहीं उठाया और न ही कुरान या मुहम्मद साहब के चमत्कारों पर । हिंदू सदैव दूसरों की आस्था का सम्मान करता हैं लेकिन जब हमारी आस्था की बात आती है तब क्यों दुनिया भर के पाखंडी धर्मनिरपेक्षवादी हमारे पीछे पड़ जाते हैं । राम पैदा नहीं हुये, राममंदिर कभी था ही नहीं जैसे सवालों का जवाब हमसे पूछा जाता है जबकि हिंदू राम को हजारो साल से मानता चला आ रहा है (तब से जब दूसरी सभ्यताओं का कोयी नामोनिशां भी नहीं था) । संविधान में सबको आस्था और उपासना की स्वतंत्रा दी गयी है । इस स्वतंत्रता और संवेधानिक अधिकार से सिर्फ हिंदू को ही क्यों हमेशा बेदखल किया जाता है । हमने तो कभी किसी की आस्था पर सवाल नहीं उठाया । http://kmmishra.jagranjunction.com

के द्वारा:

सलमान जी क्या कोयी मस्जिद बिना मिनारों के भी हो सकती है ? बाबरी ढांचे में मिनारें नहीं थीं । क्या बिना वजू किये नमाज अदा की जा सकती है ? बाबरी ढांचे में पानी का हौज नहीं था । क्या कब्जे की जमीन पर बनी मस्जिद इस्लाम में वैध मानी गयी है और ऐसी कब्जे की मस्जिदों में अदा की गयी नमाज क्या खुदा कुबूल करता है ? बाबरी ढांचे में कमल के फूल, स्वास्तिक के निशान और मंदिरों में पाये जाने वाले तमाम निशान थे । क्या ए एस आई की पूरी की पूरी रिपोर्ट फरेब है जब कि ए एस आई ने 2003 में माननीय उच्च न्यायालय के आदेश पर परिसर की खुदाई की थी । इसके अलावा खुदाई के दौरान सारे पक्षकारों के आब्सर्वर भी मौजूद थे कहीं बाहर से लाकर कोई चीज वहां न रख दी जाये । इसके आलावा कोर्ट ने नीचे दी गयी समकालीन इतिहास की किताबो को साक्ष्य माना है जिसमें राममंदिर ध्वंस का जिक्र आता है । जबकि जयचंद कम्युनिस्ट इतिहासकार इन तथ्यों को बड़ी खूबसूरती से छिपा गये । 1. बाबरनामा 2. हुमायंनामा 3. तुजुक ए जाहांगीरी 4. तारीख ए बदायुनी 5. तारीख ए फरिश्ता 6. आईना ए अकबरी 7. तकवत ए अकबरी 8. वाकियात ए मुस्तकी 9. तरीख ए दाऊदी 10. तारीख ए शाही 11. तारीख ए स्लाटिन ए अफगान 12. स्तोरिया दो मोगोर डेल – विलियम फिन्च तीर्थयात्री का सफरनामा । उपरोक्त समकालीन ऐतिहासिक किताबों में मंदिर ध्वंस का जिक्र आता है । 1. अथर्ववेद 2. स्कंद पुराण 3. न्रसिंह पुराण 4. वाल्मीकि रामायण 5. रामचरित मानस 6. केनोपनिषद 7. गजेटियर्स आदि उपरोक्त किताबों में अयोध्या में राममंदिर का जिक्र किया गया है । http://kmmishra.jagranjunction.com

के द्वारा:

सलमान अहमद जी वंदेमातरम ! आपने अयोध्या फैसले पर इस पोस्ट से पहले प्रशांत भूषण के बयान पर एक पोस्ट डाली थी और अब योगेन्द्र यादव का बयान डाला है । अगर यह दोनो महानुभव जागरण जंक्शन पर ब्लाग लिख रहे होते तो मैं शौक से उनसे वार्ता करता । ऐसा लगता है कि आप इन दोनो महानुभवों के विचारों से सहमत हैं । अयोध्या फैसले पर आदरणीय अरूणकांत जी ने एक पोस्ट लिखी थी जिसमें अयोध्या मामले पर हाईकोर्ट के फैसले को उन्होंने दुर्भाग्यपूर्ण कहा था और कई प्रश्न उठाये थे । उसके उत्तर में मैंने एक लंबा लेख लिखा था ”अयोध्या फैसला दुर्भाग्यपूर्ण नहीं है“ । आप नीचे दिये गये लिंक से उस पोस्ट पर जाकर उसे पढ़़ सकते हैं । उस पोस्ट की भाषा जरा आक्रमक है । भाषा को छोड़ दीजियेगा । तथ्यों पर ध्यान दीजियेगा । उसके बाद अगर आपको कोई शंका हो तो टिप्पणी कीजियेगा । मैं आपके प्रश्नों के उत्तर देने का प्रयास करूंगा । http://kmmishra.jagranjunction.com/2010/10/04/%E0%A4%85%E0%A4%AF%E0%A5%8B%E0%A4%A7%E0%A5%8D%E0%A4%AF%E0%A4%BE-%E0%A4%AB%E0%A5%88%E0%A4%B8%E0%A4%B2%E0%A4%BE-%E0%A4%A6%E0%A5%81%E0%A4%B0%E0%A5%8D%E0%A4%AD%E0%A4%BE%E0%A4%97%E0%A5%8D%E0%A4%AF%E0%A4%AA/

के द्वारा:

हाँ फैसला तो सही नहीं हुआ. यह सभी जानते हैं. यहाँ तक की अब जज भी घूसखोर और भ्रष्ट हो गए हैं. यह भी एक ऐसा ही उदहारण है. अगर न्याय किया जाये तो मस्जिद तोड़ने वालों को मस्जिद तोड़ने की सजा इसका बंटवारा करने से पहले देना चाहिए था तब लोगों को समझ में आ जाता की इंसान बड़ा है या एक जगह. और रही मंदिर के बात तो उसका सबूत तो है ही नहीं. फिर भी अगर अब इतने सालों बाद हिन्दू भाइयों को यह पता लग गया की यहीं पर मंदिर था जहाँ राम पैदा हुए थे तो मुस्लिम आपसी भाईचारे को देखते हुए रास्ता निकाल लेते थे. कम से कम इस बंटवारे से तो बेहतर ही होता. लेकिन जब अदालत चला ही गया तो अब वहीँ देखेंगे. एक बार फिर कहता हूँ की यह सिर्फ ज़मीन या मस्जिद मंदिर की बात नहीं बात तो न्याय की है. जो होना था वोह नहीं हुआ. सलाम

के द्वारा:

जनाब आप पूर्वग्रह से ग्रसित हैं. यकीनन आप भावनावश ऐसे द्वेष वाले विचार प्रस्तुत कर रहे हैं. इस्लाम कभी भी उदार नहीं रहा. आपने कई ऐसे उदाहरण पेश किए हैं जो कहीं से भी मामले को सुलझाने के बजाय उसे उलझा ही अधिक रहे हैं. समझ की व्यापकता जरूरी है तभी किसी पूर्वधारणा को ख़ारिज कर सही विचार रखे जा सकते हैं. देखिए नंगई कभी भी स्वीकार्य नहीं हो सकती और हिन्दू और मुस्लिम दोनों धर्मों में बहुत से लोग ऐसे हैं जिन्होंने इसे व्यापार बना लिया है. नारी को बहका कर उसे गलत रास्ते पर ले जाने वालों की कोई कमी है. आज भी नारी स्वयं में इतनी जागरूक नहीं हो सकी है की वह अच्छे-बुरे की पहचान कर सके. नारी को हमेशा ही किसी अवलंबन की जरूरत है ताकि उसकी सुरक्षा हो सके. इसलिए दोनों धर्मों के सभी सच्चरित्र पुरुषों को चाहिए कि ऐसी किसी भी धारणा का विरोध करें जो नारी को पतन के रास्ते पर ले जाती हो.

के द्वारा:




latest from jagran